blogid : 1825 postid : 744

डेंगू का प्रकोप

Posted On: 20 Aug, 2010 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Onlymyhealthडेंगू बुखार एक ऐसी बीमारी है जिसे महामारी के रूप में देखा जाता है। वयस्कों के मुकाबले, बच्चों में इस बीमारी की तीव्रता अधिक होती है। डेंगू के सामान्य लक्षण हैं सर दर्द, जोड़ों में मांसपेशियों में और शरीर में दर्द होना, तेज़ बुखार, चिडचिडा़पन।

डेंगू की स्थिति में मृत्युदर लगभग एक प्रतिशत है। यह बरसात के मौसम में तेज़ी से फैलता है। आपको या आपके पड़ोसी को अगर डेंगू बुखार हो जाता है, तो इससे बचने के उपाय अपनायें। सबसे पहले रक्तजांच करायें और अपने आसपास मच्छरों से सुरक्षा के उपाय अपनायें।

डेंगू के प्रकार:

डेंगू वायरस के चार मुख्य प्रकार हैं । एक व्यक्ति अपने जीवनकाल में सिर्फ एक बार ही किसी खास प्रकार के डेंगू से संक्रमित होता है।
क्लासिक डेंगू साधारण प्रकार का डेंगू है, यह स्वयं ही ठीक होने वाला है और इससे मृत्यु नहीं होती। लेकिन यदि व्यक्ति को डेंगू हीमोरेगिक बुखार या डेंगू शाक सिंड्रोम हुआ है और इसका ठीक प्रकार से उपचार नहीं किया गया तो व्यक्ति की मृत्यु भी हो सकती है।

डेंगू बुखार के लक्षण:

डेंगू बुखार के लक्षण इस बात पर निर्भर करते हैं कि बुखार किस प्रकार है। सामान्यत: डेंगू बुखार के लक्षण कुछ ऐसे होते हैं:

• ठंड के साथ अचानक तेज बुखार होना।
• ब्लड प्रेशर का सामान्य से बहुत कम हो जाना।
• मांसपेशियों तथा जोड़ों में दर्द होना।
• सरदर्द होना।
• अत्यधिक कमजो़री महसूस होना, भूख कम लगना।
• गले में दर्द होना।
• शरीर पर रैशेज़ भी हो सकते हैं।
• डेंगू बुखार दो से चार दिनों तक रहता है।

डेंगू कैसे फैलता है:

• डेंगू बुखार उस मच्छर के काटने से होता है जिसने पहले से ही किसी डेंगू के मरीज़ को काटा है। यह मच्छर बरसात के मौसम में ज्यादा फैलते हैं और यह उन जगहों पर तेज़ी से फैलते हैं जहां पानी जमा हो।
• यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे में नहीं फैलता लेकिन उस मच्छर के काटने से होता है जिसने किसी संक्रमित व्यक्ति को काटा है।
• डेंगू उन लोगों को जल्दी प्रभावित करता है जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमज़ोर होती है। यह भी हो सकता है कि डेंगू बुखार एक ही व्यक्ति को कई बार हो जाये। लेकिन ऐसी स्थिति में डेंगू के प्रकार भिन्‍न होंगे।
• मलेरिया की तरह डेंगू बुखार भी मच्छरों के काटने से फैलता है। इन मच्छरों को ‘एडीज मच्छर’ कहते हैं और यह दिन में काटते हैं।

डेंगू का उपचार :

• डेंगू वायरल संक्रमण है और इसलिए यह बीमारी स्वयं ही एक से दो हफ्तों में ठीक हो जाती है।
• बीमारी का इलाज इससे होने वाली समस्या‍ओं को कम करके ही किया जा सकता है।
• सामान्य बुखार की स्थिति में पैरासिटामाल दिया जा सकता है।

डेंगू से बचने के उपाय :

• डेंगू से बचने के लिए सबसे ज़रूरी है मच्छरों से बचना जिनसे कि डेंगू का वायरस फैलता है।
• ऐसे क्षेत्र जहां डेंगू फैल रहा है, वहां पानी को जमा ना होने दें। कूलर का पानी बदलें, गमले या सड़कों पर पानी जमा ना होने दें।
• बरसात में या ऐसे क्षेत्रों में जहां मच्छर हों वहां मच्छरों से बचने का हर संभव प्रयास करें।

आप जिस क्षेत्र में रह रहे हैं वहां मच्छर अधिक हैं तो मास्कीटो रिपेलेंट का प्रयोग ज़रूर करें। अपने घर, बच्चों के स्कूल और आफिस की साफ सफाई पर भी नज़र रखें।
To read more health related articles visit at http://www.onlymyhealth.com

| NEXT



Tags:             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.25 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

s p singh के द्वारा
September 20, 2010

महोदय, डेंगू जानलेवा बीमारी से बचाव के सुंदर, विस्तृत विवरण के लिए धन्यवाद, मेरी एक शंका का निवारण करें तो आभारी रहूँगा अभी १७/९/२०१० को मैंने अपनी ३८ वर्षीया पुत्री को लगातार बुखार की शिकायत होने पर तथा यूरिन में खून आने पर स्थानीय अस्पताल में भर्ती किया जहाँ पर खून में प्लेटलेट की मात्र ६०,००० आई तथा Hb 14.5 था अभी इलाज चल रहा है तथा स्वास्थ्य में सुधर भी है डाक्टर कह रहे हैं अब कोई खतरा नहीं है सब ठीक हो जयगा, आप ने अपने लेख में प्लेटलेट एवं यूरिन में ब्लड के विषय में कुछ नहीं बताया है कृपया मार्गदर्शन करें /

    www.onlymyhealth.com के द्वारा
    September 23, 2010

    डेंगू हीमोरेगिक (dengue haemorrhagic) बुखार में प्लेटलेट की मात्रा कम हो जाती है और यूरीन में रक्त भी आ सकता है। ऐसा होने पर तुरंत चिकित्सक से परामर्श लें।

kharyal के द्वारा
August 21, 2010

Dear Sir. Through the valuable columns of your paper I would like to draw the attention of the concerned department, namely PHE, which maintains the supply of drinking water. Dear sir, this is the time of rainy season, and most of the diseses particulary the contagiour spread like forest fire. Secondly, we all give instructions to others for water conservation, but to my surprise, a water supply pipe at the point of Key, (which the line man opens and closes for supply and stopage of water) that too in front of the tube well, near fire station Gandhi Nagar, has developed a leakage or you can say it was not prperly set by the authority. Due to which the dirty water is being supplied to the residents of the locality, which is its self an invitation to the diseses. I surprise to note that even the line man who works with that key daily, do not bother to get it upright. Due to this litters of fresh water also gets wasted. All this is being done in the name of MASTER PLAN. Hope that this letter will definetly make the officers aware of their duties. Thanking You. Yours trully, Kharyal.

आर.एन. शाही के द्वारा
August 20, 2010

डेंगू पर बहुत उपयोगी जानकारी । बधाई । उम्मीद है ऐसी जानकारियाँ नियमित आएंगी … आती भी हैं । मुझे वेबपेज को सेव करना पड़ा ।


topic of the week



latest from jagran